दिल्ली चुनाव: अमित शाह का ऐलान- 4 महीने में शुरू हो जाएगा राम मंदिर का निर्माण


 

वीएचपी (VHP) ने भी सरकार से नवरात्रि में राम मंदिर (Ram Mandir) का काम शुरू करने की अपील की है. 

नई दिल्ली. विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election) में प्रचार को रफ्तार देने के लिए उतरे गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने ऐलान किया है कि आने वाले चार महिनों में राम मंदिर (Ram mandir) का निर्माण कार्य शुरू हो जाएगा. दिल्ली के मटियाला में चुनावी जनसभा को संबोधित कर रहे अमित ने कहा कि राजधानी में भारी बहुमत से बीजेपी सरकार बनाएगी. बता दें कि वीएचपी ने भी सरकार से नवरात्रि में मंदिर का काम शुरू करने की अपील की है.
आगे उन्होंने कहा कि-  मैं केजरीवाल को याद कराने आया हूं कि, भइया केजरीवाल आपने जो वादे किए थे वो आप तो भूल गए,  लेकिन वो वादे न दिल्ली की जनता भूली है और न ही भाजपा के कार्यकर्ता भूले हैं. अमित शाह ने केजरीवाल से सवाल किया कि- जरा बताएं कि कितने स्कूल बनाए. 15 लाख सीसीटीवी कैमरा लगाने की बात कही थी, और कुछ ही सीसीटीवी लगाकर जनता को बेवकूफ बना रहे हो.

उन्होंने कहा कि केजरीवाल जी ने 5,000 डीटीसी की बसें लाने की बात कही थी, सिर्फ 300 बसें ही लाए. 8 लाख लोगों को नौकरी देने की बात कही थी, लेकिन पहले के अस्थाई कर्मचारियों को ही स्थाई नहीं किया. शाह ने केजरीवाल से पूछा कि आपने कहा था कि यमुना स्वच्छ कर देंगे, लेकिन आपने यमुना स्वच्छ करने की तो दूर की बात है जो हमारे घर में पानी आता था वो गंदा कर दिया.

जनसभा को संबोधित करते हुए गृहमंत्री ने साफ कहा कि- 

केजरीवाल ने कहा था कि दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियों को हम अधिकृत कर देंगे. लेकिन हमेशा इस काम में अड़ंगा लगाया. नरेन्द्र मोदी जी ने दिल्ली के करीब 1,731 अनिधिकृत कॉलोनियों के लोगों को 5 हजार रुपये में अपने घर का मालिकाना हक देने का काम किया है.
पूरी तरह से केजरीवाल को घेरते हुए अमित शाह ने कहा कि-  केजरीवाल सत्ता में आने के 4.5 साल तक ये कहते थे कि मोदी जी ने मुझे कुछ काम ही नहीं करने दिया, इसलिए दिल्ली का विकास नहीं हुआ. अब कहते हैं, 5 साल में दिल्ली का विकास मैंने किया.

पिछले 5 साल में केजरीवाल ने एक भी चुनाव नहीं जीता. पहले वाराणसी में हारे, हरियाणा में हारे, पंजाब में हारे, एमसीडी चुनाव में हारे, फिर लोकसभा चुनाव में भी सारी सीटें हार गए. एक चुनाव जीतने के बाद सारे चुनाव दिल्ली की जनता ने उन्हें हराए हैं.
अमित शाह ने आगे कहा- 2 साल पहले जेएनयू में भारत विरोधी नारे लगे भारत के टुकड़े हों एक हजार... मोदी जी ने इनको जेल में डाला तो तुरंत केजरीवाल और राहुल एंड कंपनी वहां पहुंच गई और कहने लगें कि ये उनको वाणी स्वतंत्रता का अधिकार है।

रिपोर्ट विपिन कुमार सोनी