पीड़ित शिक्षिका को अभी नही मिला न्याय व सुरक्षा ,विभाग ने साधी चुप्पी


कुशीनगर।रामकोला विकास खण्ड के अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय मेहंदीगंज में कार्ययत पीड़ित शिक्षक को अभी तक नही मिला न्याय। इतनी बड़ी घटना होने के बाबजूद अभी तक बेसिक शिक्षा अधिकारी को नही मिला समय आखिर क्यों? क्या कोई और बड़ी घटना का कर रहे हैं इंतजार। उक्त शिक्षिका अपनी आप बीती घटना का गुहार मा० मुख्यमंत्री उ०प्र० शासन से लेकर जिला प्रशासन को भी  घटनाओं से अवगत कराया है। और अपनी सुरक्षा की गुहार भी लगाई है लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ।  विद्यालय जो टुटने के कगार पर था जहाँ पर मात्र भष्टाचार के सिवा कुछ नही था अभिलेख भी अधुरे मिले और बताती रहीं । लेकिन सब लोग अनसुनी करते रहे । साधना अकेले ही पुरे विद्यालय को अपने दम चलाती रही और लोग मेरे लिये शाजिश रजते रहे ।  गाँव के ही लोगों को शराब पीलाकर मेरे  विद्यालय में भेजते रहे ।लेकिन मैं अपना पैसा लगाकर मेहदीगंज के बच्चों की संख्या बढ़ाने के लिये बच्चों के लिये। खीर खिलाती। गाँव में घर घर जाकर बच्चों को पढ़ाने के लिये लाती । कभी गाँव के ही आदमी को बैठाकर शौचालय के लिये जाती। तब बहुत मेहनत व  संर्घष करके विद्यालय को इतनी उंचाइयों पर पहुंचाया यदि बच्चे बिमार होते उनके लिये दवाई अपने ही पैसो से कराती । लेकिन जो स्थिति को देखते मैंने अपनी सुरक्षा की माँग की तो विभाग ने कोई कदम नहीं उठाया। ना ही मौके पर  बी० एस० ए० महोदय पहुचे और न ही खण्ड शिक्षा अधिकारी ।
एक कठिन परिश्रम करने वाले को क्या मिला।