एक और जिले का नाम बदलने की तैयारी में योगी सरकार, ये होगा 'बस्ती' का नया नाम


 

जिलाधिकारी निरंजन ने बताया कि बस्ती (Basti) जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव राजस्व बोर्ड को भेजा गया है और नाम बदलने पर एक करोड़ रुपये का खर्च आएगा.

गोरखपुर. उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के बस्ती (Basti) जिले का नाम बदलकर वशिष्ठ नगर करने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है. जिला प्रशासन ने सरकार को रिपोर्ट भेजी है. जिलाधिकारी निरंजन ने बताया कि बस्ती जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव राजस्व बोर्ड को भेजा गया है और नाम बदलने पर एक करोड़ रुपये का खर्च आएगा.

बता दें कि योगी सरकार मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम बदलकर पंडित दीनदयाल उपाध्याय कर चुकी है. दो जिलों इलाहाबाद और फैजाबाद के नाम बदलकर क्रमश: प्रयागराज और अयोध्या कर दिए गए हैं. अब बस्ती का नाम बदलने की तैयारी है.
बस्ती महोत्सव के साल भर पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बस्ती मेडिकल कॉलेज का नाम महर्षि वशिष्ठ के नाम पर रखने का ऐलान किया था. महर्षि वशिष्ठ भगवान राम के गुरू थे. मेडिकल कॉलेज का नाम बदले जाने के बाद से ही सांसद हरीश द्विवेदी और विधायक अजय कुमार सिंह ने जिले का नाम बदलने की मांग शुरू कर दी.
पहली बार पिछले साल 28 नवंबर को जिले का नाम बदलने का प्रस्ताव राजस्व बोर्ड को भेजा गया था और उसके बाद बोर्ड ने नाम बदले जाने पर होने वाले खर्च के बारे में पूछा था. जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने मंडलायुक्त कुमार सागर को रिपोर्ट भेजी और सागर ने संशोधित रिपोर्ट सरकार को भेज दी.

रिपोर्ट पवन कुमार गुप्ता