दिल्ली चुनाव: जयराम रमेश की कांग्रेस को सलाह- अब अपना घमंड छोड़ना पड़ेगा...


 

दिल्ली चुनाव में कांग्रेस के लचर प्रदर्शन पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी को फिर से संगठित करने की उठाई बात. जयराम रमेश और वीरप्पा मोईली ने चुनावी हार के बाद तुरंत एक्शन लेने की दी सलाह.

कोच्ची. दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Election Result) में कांग्रेस पार्टी (Congress) के लचर प्रदर्शन को लेकर पार्टी में जारी बयानबाजी का दौर चरम पर पहुंचता हुआ नजर आ रहा है. एक दिन पहले जहां दिल्ली के प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको (PC Chacko) ने पार्टी के खराब प्रदर्शन को लेकर बयान दिया था. वहीं, गुरुवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश (Jairam Ramesh) ने दिल्ली चुनाव के परिणाम को पार्टी के लिए अप्रासंगिक होने का खतरा करार दिया है. जयराम रमेश ने कांग्रेस संगठन में आमूलचूल बदलाव की सलाह दी है. साथ ही यह भी कहा है कि अगर समय रहते पार्टी सचेत न हुई, तो यह अप्रासंगिक हो जाएगी. जयराम रमेश के अलावा दक्षिण भारत के एक अन्य वरिष्ठ कांग्रेसी वीरप्पा मोइली ने भी चुनाव परिणामों को लेकर ऐसा ही अंदेशा जताया है.

पहचान पर भी संकट
दिल्ली के चुनाव में कांग्रेस पार्टी के प्रदर्शन से आहत पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने पार्टी संगठन को मजबूत करने के लिए कई सलाह दिए हैं. साथ ही उन्होंने पार्टी नेताओं के बीच आपसी विवाद, अहंकार आदि को लेकर भी टिप्पणी की है. जयराम रमेश ने कहा कि आज की तारीख में कांग्रेस के नेता अप्रासंगिक होते जा रहे हैं. अगर ऐसा ही रहा तो आने वाले दिनों में पार्टी की पहचान खत्म हो जाएगी और यह लोगों के बीच अप्रासंगिक हो जाएगी. दिल्ली के चुनाव परिणाम पर रमेश ने कहा कि नतीजों से साबित हो गया है कि दिल्ली की जनता ने अमित शाह को खारिज कर दिया. चुनाव प्रचार के दौरान अमित शाह ने जिस भाषा का इस्तेमाल किया, उसको देखते हुए जनता ने उन्हें करारा जवाब दिया है.

स्थानीय नेतृत्व को बढ़ावा देना होगा
जयराम रमेश ने कांग्रेस पार्टी में स्थानीय स्तर पर नेतृत्व को बढ़ावा देने की भी पैरवी की. उन्होंने कहा कि पार्टी में निचले स्तर के नेताओं और कार्यकर्ताओं को बढ़ावा देना होगा. उन्हें फैसले लेने की स्वतंत्रता देनी होगी. जब तक हम स्थानीय स्तर के नेताओं को बढ़ावा नहीं देंगे, पार्टी संगठन को मजबूत करना नामुमकिन है. रमेश ने देश के विभिन्न राज्यों में पार्टी की मौजूदा स्थिति पर कहा, 'बिहार में कांग्रेस लगभग अप्रासंगिक हो चुकी है. यूपी में भी हम सिमटते जा रहे हैं. लेकिन राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में हमारी स्थिति मजबूत है. हरियाणा में हमने फिर वापसी की है. जब तक हम नेतृत्व में बदलाव नहीं करेंगे, स्थिति ठीक नहीं होगी. इसके लिए जरूरी है कि पार्टी में आमूलचूल बदलाव हो.'

वीरप्पा मोइली बोले- अहंकारी हो गए नेता
जयराम रमेश की तरह ही कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता वीरप्पा मोइली ने भी दिल्ली चुनाव के नतीजों को लेकर बयान दिया है. मोइली ने पार्टी की स्थिति को देखते हुए तुरंत एक्शन लेने की सलाह दी है. उन्होंने कहा, 'कांग्रेस के नेताओं को आत्ममंथन करना होगा. उन्हें पार्टी की ऐसी स्थिति पर विचार करना होगा, वरना आने वाले दिनों में जनता हमें नकार देगी.' पार्टी नेताओं के अहंकार पर वीरप्पा मोइली ने कहा, 'हमारे नेताओं में अहंकार आ गया है. 6 साल तक सत्ता से बाहर रहने के बाद भी वे खुद को मंत्री समझते हैं।

रिपोर्ट विपिन कुमार सोनी